[Original] Think and Grow Rich in Hindi PDF: सोचिये और धनी बनिये

Think and Grow Rich in Hindi PDF सोचिये और धनी बनिये

Think and Grow Rich in Hindi PDF: आज के समय में हर कोई जल्द धनी(Rich) बनना चाहता है परन्तु क्या यह सम्भव है या नहीं. इस बात से जुड़ी कुछ प्रमुख उदाहरण को नेपोलियन (Nepoliyan) ने Think and Grow Rich नामक एक पुस्तक (Book) में बताई है.अतः यदि आप भी सोचों और अमीर बनों पर काम करते है तो आपके सिख के लिए थिंक एंड ग्रो पुस्तक सबसे अच्छा है.Think and Grow Rich in Hindi PDF का download लिंक निचे दिया है. निचे दिए गये लिंक से आप Think and Grow Rich in Hindi PDF को डाउनलोड कर सकते है.

सोचिये और अमीर बनिये !! Think and Grow Rich in Hindi PDF

थिंक एंड ग्रो रिच एक ऐसा साहित्य पुस्तक है जो व्यक्तिगत सफलता पर आधारित है.इस पुस्तक को नेपोलियन हिल्ल ने लिखा था जिसकी भाषा अंग्रेजी थी. Think and Grow Rich पुस्तक को 1937 में द राल्स्टन सोसायटी ने प्रकाशित किया था जिसमे कुल 238 पृष्ट है.यह पुस्तक काफ़ी प्रसिद्ध हो गयी जिसके कारण थिंक एंड ग्रो रिच पुस्तक को अलग – अलग भाषा में प्रकाशित किया है.

Think and Grow Rich Summary in Hindi

थिंक एंड ग्रो पुस्तक व्यक्ति के मानसिक शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है जिसकों नोपोलियन हिल्ल ने कई बिजनेस मैन के विचार जानने के आधार पर Think and Grow Rich Book को लिखा था. नेपोलियन हिल्ल का मानना है की धनी व्यक्ति बनने के लिए सबसे जरूरी चीज है व्यक्ति की मानसिकता का मजबूत होना. हिल्ल का दावा है की सफलता दिमाग से शुरू होती है जो व्यक्ति को धन बनाने के मार्ग दिखाती है.तथा साथ ही दृढ शक्ति और सकरात्मक विचार बनाये रखने से सफलता मिलती है.अतः नेपोलियन हिल्ल की थिंक एंड ग्रो रिच बुक पाठकों को आत्म-संदेह दूर करने और महानता हासिल करने की उनकी क्षमता में विश्वास पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करती है.हिल वित्तीय बहुतायत मानसिकता की अवधारणा का परिचय देता है, जो किसी की वास्तविकता को आकार देने में विचारों की शक्ति पर जोर देता है. लेखक का तर्क है कि मन एक शक्तिशाली शक्ति है जो अपने विचारों के आधार पर सफलता को आकर्षित या विकर्षित कर सकता है. वित्तीय बहुतायत मानसिकता विकसित करने में धन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाना, सफलता की कल्पना करना और वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने की क्षमता में अटूट विश्वास बनाए रखना शामिल है.

 

think and grow rich book in hindi pdf

प्रेम मंजूषा : Prem Manjusha PDF Download [Original]

think and grow rich book in English

1 thought on “[Original] Think and Grow Rich in Hindi PDF: सोचिये और धनी बनिये”

Leave a Comment